मकर संक्रांति : विधि एवं मान्यताएँ

January 12, 2020
Share on
January 12, 2020

मकर संक्रांति, धनु से मकर राशि में होने वाले सूर्य के संक्रमण के रूप में मनाया जाने वाला एक फसल उत्सव है । इस दिन लोग सूर्य भगवान की पूजा करते हैं और इलाहाबाद में यमुना, सरस्वती और गंगा नदियों के संगम पर पवित्र स्नान करते हैं । इस दिन कुछ पारंपरिक मिठाइयों के साथ चावल, गुड़ और तिल के विभिन्न व्यंजन बनाए जाते हैं । इस दिन पतंग उड़ाना एक अनुष्ठान की तरह है क्योंकि लोगों का मानना है कि पतंग के माध्यम से, उनकी इच्छाएं देवताओं तक पहुंचती हैं ।

इस दिन सुबह जल्दी उठकर तिल का उबटन कर स्नान किया जाता है । सुहागन महिलाएं सुहाग की सामग्री का आदान-प्रदान भी करती हैं । ऐसा माना जाता है कि इससे उनके पति की आयु लंबी होती है । ऐसा भी माना जाता है कि इस दिन किए गए दान से सूर्य देवता प्रसन्न होते हैं ।

भारतीयों का प्रमुख पर्व मकर संक्रांति अलग-अलग राज्यों, शहरों और गांवों में वहां की परंपराओं के अनुसार मनाया जाता है | इसी दिन से अलग-अलग राज्यों में गंगा नदी के किनारे माघ मेला या गंगास्नान का आयोजन किया जाता है | कुंभ के पहले स्नान की शुरुआत भी इसी दिन से होती है | मकर संक्रांति त्योहार विभिन्न राज्यों में अलग-अलग नाम से मनाया जाता है |

उत्तरप्रदेश : मकर संक्रांति को खिचड़ी पर्व कहा जाता है, सूर्य की पूजा की जाती है, चावल और दाल की खिचड़ी खाई और दान की जाती है |

गुजरात और राजस्थान : उत्तरायण पर्व के रूप में मनाया जाता है, पतंग उत्सव का आयोजन किया जाता है |

आंध्रप्रदेश : संक्रांति के नाम से तीन दिन का पर्व मनाया जाता है |

तमिलनाडु : किसानों का ये प्रमुख पर्व पोंगल के नाम से मनाया जाता है, घी में दाल-चावल की खिचड़ी पकाई और खिलाई जाती है |

महाराष्ट्र : लोग गजक और तिल के लड्डू खाते हैं और एक-दूसरे को भेंट देकर शुभकामनाएं देते हैं |

पश्चिम बंगाल : हुगली नदी पर गंगा सागर मेले का आयोजन किया जाता है |

असम : भोगली बिहू के नाम से इस पर्व को मनाया जाता है |

पंजाब : एक दिन पूर्व लोहड़ी पर्व के रूप में मनाया जाता है | धूमधाम के साथ समारोह का आयोजन किया जाता है |

मकर संक्रांति क्या है ?
सूर्य के एक राशि से दूसरी राशि में जाने को ही संक्रांति कहते हैं | एक संक्रांति से दूसरी संक्रांति के बीच का समय ही सौर मास है | वैसे तो सूर्य संक्रांति 12 हैं, लेकिन इनमें से चार संक्रांति महत्वपूर्ण हैं जिनमें मेष, कर्क, तुला, मकर संक्रांति हैं | मकर संक्रांति के शुभ मुहूर्त में स्नान, दान और पुण्य के शुभ समय का विशेष महत्व है |

Get updates from MDPH

Discounts, Product Launch, News Alerts, etc

Thank you! Your submission has been received!
Oops! Something went wrong while submitting the form.